KHABRA PUNJAB DIYA

संगरूर के गांव भगवानपुरा में डेढ़ सौ फुट गहरे बोरवेल में गिरे दो साल के मासूम फतेहवीर सिंह को 48 घंटे बाद भी बाहर नहीं निकाला जा सका है। शनिवार को केंद्रीय आपदा प्रबंधन टीम (एनडीआरएफ) और डेरा समर्थक टीम (शाह सतनाम फोर्स) ने फिर से मोर्चा संभाला। शाम चार बजे तक डेरा समर्थक टीम ने सौ फुट समानांतर बोर कर दिया और उसके बाद नए बोर को पुराने बोर (जिसमें फतेहवीर सिंह फंसा हुआ है) से मिलाने की कवायद शुरू की

वहीं सीसीटीवी के माध्यम से बच्चे पर लगातार नजर रखने के अलावा बोर में ऑक्सीजन से सप्लाई भी जारी है। फतेहवीर के हाथों में सूजन लगातार दिखाई दे रही है, लेकिन शनिवार को किसी तरह की मूवमेंट नोटिस नहीं की गई। इससे प्रशासन की परेशानी बढ़ गई है। सीसीटीवी फुटेज में बच्चे के हाथों पर मिट्टी चिपके होने का आभास हो रहा है।
घटनास्थल पर डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस का प्रबंध किया गया है। इसके अलावा संगरूर के एक निजी अस्पताल में वेंटीलेटर का इंतजाम भी किया गया है। डीसी घनश्याम थौरी और एसएसपी संदीप गर्ग खुद पूरी स्थिति को मॉनिटर कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *